Email Marketing क्या है?

Email Marketing क्या है?

मार्केट में प्रचार करने के काफी सारे तरीके है. उसमेसे ही एक के बारे में हम जानकारी लेने वाले है. इस पोस्ट में हम Email Marketing क्या है? इसके बारे में पूरी जानकारी लेने वाले है. पिछलि पोस्ट में हमने digital marketing के बारे में जाना था. फ्रेंड्स! किसी भी छोटे-मोठे व्यापार का प्रचार करने के काफी सारे तरीके है. Email Marketing उसमे से ही एक है. यह काफी popular और effective marketing strategy है. इसीलिये आज हम जानेंगे, ईमेल मार्केटिंग क्या होता है?

email marketing kya hai

आज कोई भी किसी भी फील्ड की कंपनी है. वह अपने users और कस्टमर के टच में रहने के ईमेल मार्केटिंग का इस्तेमाल करती है. आपने भी कभी न कभी इसके बारे में सुना ही होगा. या शायद, आपके inbox में भी ऐसे प्रोमोटिंग पर्पस के लिए आये हूये मेल भरे पड़े होंगे. यफी फिर यह भी हो सकता है, की आप को ब्लॉगर अथवा मार्केटर हो. आजका मुद्दा यह हे की what is email marketing और सवाल का जवाब में आपको दूंगा. वो भी hindi भाषा में.

Email Marketing क्या है?

किसी भी business promotion के लिए या फिर नए प्रोडक्ट को प्रोमोट अथवा ऑफर की जानकारी लोगोतक पहुचाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक मेल की सहायता लेकर, अपने व्यापार को बढ़ावा देना. या दुसरे शब्द में कहे तो, ईमेल के सहारे लोगो को अपने तरफ आकर्षित करना(website अथवा blog पर traffic generate करना.) इस technique को ही email marketing कहते है.

शुरू-शुरू में website अथवा blog पर traffic लाना काफी मुश्किल होता. वही दूसरी तरफ किसी भी स्टार्टअप बिज़नेस के लिए सेल बढ़ाना काफी मुश्किल होता है. परंतु, ईमेल मार्केटिंग द्वारा अपने कस्टमर्स and ऑडियंस की list build करना अपने website को प्रमोट करना काफी आसान है. उपरसे अगर विजिटर को अगर कंपनी के तरफ से कोई सर्विस के विषय में मेल भेजा जाता है. तो वह कंपनी कितनी प्रोफेशन तरीके से अपना काम करती हे इसका भी अंदाजा आ जाता है.

यह कोई जरुरी नहीं हे की आप कोन हे और आपका व्यापार किस सम्भंदित है. हर प्रकार के orginzation को ईमेल मार्कटिंग का इस्तेमाल करना ही पड़ता है. जैसे अगर में इसके कुछ उदाहरन देना चाहू तो तो facebook का इस्तेमाल करटे ही होंगे. तो मान लीजिये कुछ समय के लिए हम fb अकाउंट को ओपन ही नहीं करते. तो facebook द्वारा हमें notification emails आने लग जाते है. For example, XYZ you have three new friends request today या फिर today is abc’s birthday. तो जब हम उस मेल को पढ़ते है, तो हमें बड़ी ही उस्तुकता होती है. यह जानने के लिए की हमें किसने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी है. तो हम फ़ौरन हमारे अकाउंट में login हो जाते है. तो फेसबुक ने क्या किया? आपको मेल में notification भेजी और ईमेल द्वारा marketing की और users को अपने platform की तरह आकर्षित किया. जिस्से उनके site पर traffic भी आया. साथ ही user engagement को भी बढ़ावा दिया.

अभी एक e-commerce वेबसाइट का उदाहरन देखते है. आपने कभी online shopping की है? इस competition में amazon काफी आगे है.तब जब भी कोई व्यक्ति amazon पर अकाउंट खोलता है. तो खता बनाते वक्त वह अपनी बेसिक इनफार्मेशन provide करता है. इसकारण अमेज़न के पास काफी सारे mail id collect होते है. तो उसी समय से उस व्यक्ति को अमेज़न की तरफ से नये ऑफर्स अथवा product लांच होने पर ईमेल द्वारा अपडेट दिया जाता है. इससे users को जानकारी मिलती रहती है.

इतनी दूर क्यों? आप हमारे blog पर भी email subscription का फॉर्म देख सकते है. तो अगर कोई हमारा विजिटर उस newsletter को signup करता है. तब हम जैसे कोई new post लिखते है. तो उसको email द्वारा update भेजते है.

Read Also:-

Internet in Hindi

SEO क्या है

ईमेल मार्केटिंग कैसे किया जाता है?

मित्रो! हम ईमेल मार्केटिग क्या है? इस विषय में जानकारी ले रहे है. कैसे किया जाता हे यह में आपको नेक्स्ट पोस्ट में बताऊंगा. But, में आपको overall आईडिया देता हूँ. की यह पूरा प्रोसेस अथवा system कैसे किया जाता है.

1. Step:- सबसे पहले हमें यह decide करना है की हमें ईमेल मार्केटिंग क्यों करना है? मतलब हमें यह तय करना हे की, हमें किसी नए स्टार्टअप को प्रमोट करना हे या फिर सिर्फ website पर traffic लाना है. ताकि आगे हमें मेल में किस प्रकार का content लिखना हे अथवा किस ऑडियंस को टारगेट है. इसकी प्लानिग पहले से ही तैयार होना जरुरी है. ताकि आगे हमारा काम easy हो जाए.

2. Step:- अभी दुसरे पड़ाव में, हमें list building करनी होती है. यानि हमें emails को इक्कठा करना पड़ता है. ताकि, आगे हम एक-एक को ईमेल भेज सके. इमेल्स collect करने के लिए आपके पास ब्लॉग अथवा वेबसाइट होना काफी जरुरी है. उसके बाद, दो तरीके से mail id collect कर सकते है. एक तो हम newsletter का फॉर्म widget में लगा सकते है. या फिर सबसे आसान तरीका है, अपने आर्टिकल के नीचे visitors को कमेंट करने के लिए सुविधा देना. इसतरह से हमारे पासा नाम के साथ-साथ id भी आएँगी.

3. Step:- अभी दो पड़ाव के बाद, हमारे पास काफी सारे email list स्टोर होगी. अब emails भेजना start करना चाहिये. पर कैसे? इतने सारे subscribers को मैन्युअली मेल भेजना तो काफी कठिन कार्य है. तो आप ही सोचो यह कैसे किया जा सकता है. मित्रो! इसके लिए email marketing tools का इस्तेमाल किया जाता है. इसे सॉफ्टवेर भी कह सकते है. यह इस तरह के tools होते हे. जिसका इसका इस्तेमाल करके, हम आसानी से campaign चला सकते है.

मतलब, की हम इस टूल्स में एक अच्छा टेम्पलेट डिजाईन करके उसमें नए पोस्ट की link add करके एक साथ ही सारे सब्सक्राइबर्स को ऑटोमेटिकली ईमेल भेज सकते है. वो भी उसके नाम के साथ. सामने वाला जब email पढता है. तो उसे ऐसा लगता हे, जैसे की उसके लिए ही लिखकर भेजा गया है. परंतु, यह सारा प्रोसेस टूल की मदत से किया है. ये नीचे कूछ टॉप ईमेल मार्केटिंग सॉफ्टवेर की लिस्ट है.

ईमेल मार्केटिंग के फायदे.

  • किसी भी नए बिज़नेस का प्रमोशन बड़े आसानी से कर सकते है.
  • Email marketing द्वारा blog पर भारी मात्रा में traffic ला सकते है.
  • नये product की जानकारी तथा स्पेशल ऑफर के बारे में ऑडियंस को update दे सकते है.
  • ईमेल मार्केटिंग से हमारी professional level समझ आती है.
  • हम ईमेल द्वारा customer support प्रोवाइड कर सकते है.

Conclusion- 

Finally, आज हमने देखा Email Marketing क्या है? में उम्मीद करता हूँ. आपको हमेशा की तरह आजका आर्टिकल भी काफी पसंद आया होगा. पोस्ट बताये हुए किसी भी पॉइंट पर अगर आपको कुछ भी सवाल हो तो नीचे कमेंट करके पुछ सकते है. आपके सवाल के जवाब देने की जल्द-जल्द कोशीश की जाएगी

About Rushikesh Sonawane

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम Rushikesh Sonawane है. और मे jankaribook.com का founder हूँ. और मेने इस ब्लॉग को other blogger की help करने लिये बनाया है. वैसे तो मेरा nature काफी फ्रेंडली है. पर में ब्लॉग्गिंग को लेकर में काफी serious हूँ. blogging सिर्फ मेरी hobby नहीं, बल्कि मेरा जुनून है. And I always live for my passion... और जाने..

Leave a Comment