बाल दिवस पर भाषण – Children’s Day Speech In Hindi

बाल दिवस पर भाषण – Children’s Day Speech In Hindi

१४ नवंबर पंडित जवाहरलाल नेहरु और बाल दिवस पर भाषण. मित्रो अगर आप इस साल के children’s day के अवसर पर स्कूल में speech बोलना चाहते हो. तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हो. क्योंकि इस लेख शोर्ट ही पर बहुत ही शानदार children’s day speech in hindi दिया गया है.

Children's day speech in hindi

बच्चा चाहे किसी भी घर, समाज, राष्ट्र और देश का हो. वो खुशी का कारण बनता है. साथ ही बच्चा देश का भविष्य होता है. यह बात हमेशा पंडित जवाहरलाल नेहरु कहते है. उनका बालको के प्रति काफी स्नेह और लगाव था. इसीकारण उनके जन्म दिन के तिथि पर हर वर्ष बाल दिवस मनाये जाने लगा. जिसमे बच्चो के महत्व और अधिकार सबको समझ आये. इसीलिये पाठशाला में भाषण का आयोजन भी किया जाता है. उसीके हेतु इस लेख में children’s day speech दिया गया है.

14 नवंबर बाल दिवस – Children’s day speech in Hindi

माननीय प्रधानाचार्य, महोदय अध्यापक, यहाँपर उपस्थित सभी प्रमुख अतिथि और मेरे प्यारे बच्चो आप सभी को मेरा सुबह का नमस्कार. आज हम यहापर बाल दिवस मानाने हेतु उपस्थित हुये है. इसीलिये सबसे पहले आपको को children’s day की ढेर सारी शुभकामनाएं.

मित्रो और अधापकगणों आज के इस पावन अवसर पर  “बाल दिवस” के विषय पर में कुछ विचार व्यक्त करना चाहता हूँ. आप सभी मेरे बोल शंतातापुर्वक सुनेंगे. ऐसी आशा है.

बच्चे किसी भी देश का भविष्य होते है. उनका मन साफ़ होता है. इसीलिये “बच्चे भगवान के घर के फुल होते है” ऐसा भी कहा जाता है. बच्चे हर घर के चिराग, पाठशाला की शान, राष्ट्र की रौनक और पुरे विश्व की मजबूत बाहे है. उनके महत्व के प्रति हर देश में अपने-अपने तरह से प्रति वर्ष बाल दिवस मनाया जाता है. और जागतिक क्षेत्र में 1 जुलाई को International children’s day मनाया जाता है.

हमारे भारत देश में हर साल मे १४ नवंबर को यह दिवस मनाया जाता है. वास्तविक रूप से इस दिन हमारे देश के पहले प्रधानमंत्री श्री. पंडित जवाहरलाल नेहरु का जन्म हुआ था. उन्हें प्यार से “चाचाजी” के नाम से जाना जाता है. पंडित जवाहरलाल नेहरूजी का भारत की स्वतंत्रता रणसंग्राम में भी काफी अहम् योगदान रहा है. साथ ही देश के प्रधानमंत्री होने के नाते राजनैतिक तौर पर भी काफी योगदान है.

चाचाजी देश के प्रधानमंत्री होने के साथ-साथ उनका बच्चो के प्रति भी काफी आदर और प्रेम था. उन्होंने अपने जीवन का बहुत महत्वपूर्ण और कीमती समय बच्चो के साथ व्यतीत किया है. इनके इसी बच्चो के प्रति स्नेह और प्यार को देखकर उनके जन्मदिन को ही बाल दिवस के रूप में मनाने लगे.

जवाहरलाल नेहरु का मानना था की बच्चे भारत के उज्वल भविष्य है. उन्हें अनुशाशन, स्वच्छता, नेकी और  महत्वकांक्षा आदि. नैतिक मूल्यों के बारे में सिखाना चाहिये. ताकि बड़े होकर अच्छे नागरिक बने. पंडित नेहरू ने भारत की आजादी के बाद बच्चों की शिक्षा, विकास और कल्याण के लिए बहुत परिश्रम किया. उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रबंधन संस्थान, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना की थी.

उनका मानना था. की बच्चों की शिक्षा का पहला स्थान घर होता है. और माता पिता ही अपने संतान की पहले शिक्षक होते है. अपने लडको के उज्ज्वल भविष्य के लिए माता – पिता को ही पहला कदम उठाना चाहिए. उन्हें अच्छी शिक्षा और संस्कार देनी चाहिए. तभी जाके भविष्य में वे मजबूत और सशक्त देश की निम् बनेंगे.

आज भी इतने वर्षो के बाद कुछ बच्चोंको उनके हक से वंचित रहना पड रहा है. किसी बालक को उच्च शिक्षा नहीं मिल रही. तो कुछ लोगो को बालमजुरी करनी पड रही है. इस स्वतंत्र भारत के नागरिक होने के प्रति हमारे कुछ कर्तव्य है. हमें हमारे कर्तव्यो का पालन करना चाहिए.

जैसे अगर कोई  माता-पिता है. तो उन्हें हमेशा एक अच्छे पालक बनकर अपने पाल्य को अच्छी परवरिश के साथ-साथ उच्च शिक्षा भी देनी चाहिये. अध्यापकों का यह कर्तव्य बनता है. की, वे विद्यार्थियों को पढाई के साथ ही सच्चाई की राह पर चलाना सिखाये. हमेशा एक दूसरो का आदर और सन्मान करना सिखाये.

और अंततः एक विद्यार्थी और बालक होने के कारण, मेरा और मेरे साथीयों का यह उत्तर दारित्व बनता है. की, हम अच्छी शिक्षा प्राप्त करे. बड़े होकर अपने माता-पिता, समाज, राष्ट्र का और देश का नाम ऊँचा करे. हमेशा अपने देश के विकास के बारे में सोचे. और यही सोच, विचार एवं रास्ता हमारे चाचा नेहरूजी के स्वप्न को साकार करेगा.

इसीप्रकार मैंने इस बाल दिवस के अवसर पर अपने विचार व्यक्त किये. जाते जाते में नेहरूजी को याद करते हुये. और आपको फिरसे एक बार children’ s day की शुभकामानाएं देकर अपने भाषण पर पूर्ण विराम लगता हूँ. जय हिंद!

_____

Conclusion – तो चलिए इस प्रकार पंडित जवाहरलाल नेहरु के जन्मदिन और बाल दिवस के ऊपर भाषण देखा. I hope आपको यह children’s day speech in hindi  काफी पसंद आया होगा. अगर आप चाहे तो आप इसे social meadia के जरिये अपने दोस्तों के साथ बाँट सकते है. और यह लेख आपको कैसे लगा. यह हमें कमेंट के जरिये अपने विचार बता सकते है.

About Rushikesh Sonawane

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम Rushikesh Sonawane है. और मे jankaribook.com का founder हूँ. और मेने इस ब्लॉग को other blogger की help करने लिये बनाया है. वैसे तो मेरा nature काफी फ्रेंडली है. पर में ब्लॉग्गिंग को लेकर में काफी serious हूँ. blogging सिर्फ मेरी hobby नहीं, बल्कि मेरा जुनून है. And I always live for my passion... और जाने..

1 thought on “बाल दिवस पर भाषण – Children’s Day Speech In Hindi”

Leave a Comment