Google क्या है और इसकी हिस्ट्री | गूगल के बारे में A to Z जानकारी

Google क्या है और इसकी हिस्ट्री | गूगल के बारे में A to Z जानकारी

Google क्या है? और इसकी हिस्ट्री के बारे में A to Z जानकारी Hindi –  हर कोई internet का इस्तेमाल करता है. कोई time spent करता हे तो कोई information और knowledge प्राप्त करता है. परंतु, इंटरनेट पर जो हम इनफार्मेशन ले पा रहे हे वो किसके मदत से? जवाब सिर्फ एक ही होगा. वो हे Google बहोत लोगो को लगता हे की, यह सिर्फ search engine है. पर ऐसे बहोत से बाते हे जो उनको नहीं पता है. जैसे गूगल क्या होता है?, Google का founder (किसने बनाये है). ऊपर से यह इंटरनेट से जुडी और भी कही सारे सुविधाए provide करती है. जिनके बारे में लोगो को बिलकुल ही पता नहीं होता है. इसीलिये आजके आर्टिकल के माध्यम से हम what is Google in Hindi यह जानेंगे.

google kya hai
Google

मित्रो! आज से कुछ 17-18 सालो पहले की बात हे, तब internet तो था. लेकिन इंटरनेट पर ज्यादा information नहीं थी. जो लोग किताबे पढ़ते, अखबार पढ़ते थे. उनके पास ही सारि जानकारी होती थी. जिसकारण ऐसा होता था. की, अगर मानो किसी को किसी सवाल का जवाब पाना हो तो उसे बहोत सारे किताबो को पढना पड़ता है. ऊपर से अलग-अलग किताबे पढ़ने से जवाब भी अलग ही मिलता. इसी समस्या को अमेरिका के रहने वाले दो लडको ने पहचाना और “Google” नाम का solution पुरे दुनिया को दिया. ये कब हुआ, वो कोन थे? इसीके बारे में आज हम जानने वाले है. बस आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ लीजिये.

Google क्या है?

अगर हम किसी व्यक्ति से पूछे की भाई google क्या है तो वह बड़े ही आसानी से जवाब देगा. ये तो एक search engine है. परंतु, इसका जवाब सिर्फ दो शब्द में बताना यह गलत है. wikipedia के नुसार Google एक American multinational technology company है. जो इंटरनेट से जुड़े सुविधाए तथा product provide करती है. बेशक google एक search engine है. लेकिन, खोज इंजन के अलावा यह अन्य भी काफी सारी सुविधा provide करती है. जैसे में अगर कुछ example देना चाहू. तो इनका online advirtisment network है, Android नाम की operating system है, यहातक की youtube भी इनका ही platform है. और भी हे जैसे maps, drive, play store etc. कुल मिलाकर 140 से भी ज्यादा services और products है.

Internet और technology या फिर IT क्षेत्र में गूगल नंबर 1 कंपनी है. अगर हम इनके ओर प्रोडक्ट्स की बात करे. तो maps, drive, blogger etc. इनका chrome नाम का खुदका browser भी है. यह तो सारे चीजे हो गये सॉफ्टवेर के फॉर्मेट में! परंतु, यह technology के related गैजेट भी लांच करते ही रहते है. जैसे कुछ उदाहरन में यहाँ आपके साथ साझा करना चाहूँगा. इन्होने सन २०१६ में मोबाइल डिवाइस में अपनी दिलचस्पी दिखाई और pixle नाम का फोन बाज़ार में उतार दिया. जिसने आते ही धुम मचा दियी. अगर फ़िलहाल का उदाहरण देदु तो इनका रीसेंट उपकरण Google mini home का है. जो assistance की तरह काम करता है.

तो चलिये अब हम आजके डेट की नंबर वन कंपनी का इतिहास देखते है. की, कब और कहा google की  शुरुवात हुयी थी.

Read more –

History of google in Hindi

साल 1996 की शुरवात की बात है. तब लैरी पेज और सग्रेई ब्रिन नाम के दो शख्स उस वक्त कैलिफ़ोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय मे PHD कर रहे थे और इसि साल लैरी पेज और सग्रेई ब्रिन ने गुगल कि शुरवात कि थि.

आपको यह जानकर भि हैरानि होगि. कि, गूगल दुनिया का पहला search engine नहीं था. जी बिलकुल आपने सही पढ़ा. इनसे पहले Jerry Yang और David Filo की जोड़ी इसी विद्यालय में पढ़ रहे थे. उनको बास्केटबॉल का काफी शौक था. तब वे दोनों internet पर दिन-रात मेहनत करके बास्केटबाल के आकडे जमा करते थे. जैसे कितने खिलाडियो को बदलना चाहिये, कितने को defend करना चाहिये. वैगेरा-वैगेरा ताकि अगले दिन उन्हें जित हासिल हो सके. परंतु, उनके इस reaserch में उन्हें कड़ी मस्शकत कड़ी पड़ रही थी. बहोत सारे web pages और लिंक्स को फॉलो करके उनको उनके काम की चीज मिल जाती थी.

तभी उनदोनों ने आपस में कहा, “अरे यार word wide web का क्या फायदा” अगर हमें कोई काम की चीज ढूंडनि हो तो हमें कितनी मेहनत करनी पड़ती. क्यों न हम ऐसे कुछ बनाये जिससे ढूंढना आसान हो जाए. तभी इन दोनों ने रातो जागकर एक site बनायीं. जिसमे इन्होने खुद के हातो से सारे webpage को category का इस्तेमाल करके अलग-अलग save कर दिया. जिससे चीजे ढूंडने में आसानी होने लग गयी. और आज उनके कंपनी का नाम “yahoo” है.

तो Jerry Yang और David Filo ये पहले व्यक्ति है, जिन्होंने खोज इंजिन का अविष्कार किया था. परंतु, साल 1996 में yahoo को टक्कर देने के लिए काफी सारे कंपनिया जन्म ले चुकी थी. परंतु yahoo को सबसे बड़ा डर उनके प्रतिस्पर्धी exite से होने लगा था.

Excite दिखने में तो काफी हदतक yahoo जैसा ही था. यह एक और सर्च इंजन कंपनी थी. जिसे स्टैनफोर्ड के एक और students group ने शुरू किया था. वो भी अपने campus के छोटी सी जगह से. लेकिन इस साईट ने जो तकनीक इस्तेमाल की थी. वह याहू से काफी हदतक बेहतर थी. यहापर साइट्स को अपने हातो से श्रेणियो में नहीं बाटा गया था. बल्कि exite ने ऐसे सॉफ्टवेर को विकसित किया था. अगर कोई व्यक्ति किसी शब्द को टाइप करता. तो ये सेवा web में घुसकर उन पेजेज को ढूंड लेती थी जो टाइप किये हुए शब्द के अनुसार होती थी. यह वह दोर हे जिस तकनीक का आज हम इस्तेमाल करते है.

स्पर्धा में टिके रहने के लिये ये दो कंपनिया तरह-तरह के हद्कंडे अपनाने लगे. जैसे site पर स्टॉक्स मार्केट को दिखाना. लोगो को ईमेल सेवा प्रोवाइड करना. साल 1997 तक internet पर काफी traffic बढ़ चूका था. सभी लोग इंटरनेट का experince करने के आते थे. परंतु, स्पर्धा में टिके रहने के लिए इन कंपनियों ने सिर्फ चमक-धमक पर ही ध्यान दिया. सच कहे तो यह कम्पनिया यही भुल गयी थी. की, लोग उनके site पर क्यों आते है? लोग तो काम की चीजे search करने के लिए आते है. जिसके कारण, वे खोज तकनीकको विकसित करने पर बिलकुल ही ध्यान नहीं दे पा रहे थे.

इस बर्ताव के कारण, लोगो अभी भी कही पर वो नहीं मिलता जिसकी उनको तलाश है. परंतु, कुछ ही दिनों में लोगो को एक और नया रास्ता मिल गया. वो भी उसी ही जगह से सामने आया. वो हे stainford universecity. इस बार कंपनी का नाम भी काफी मजेदार था. वो थी google. यह नाम googol इस mathematical टर्म्स से आया. इन्होने सन 1996 में एक रिसर्च परियोजना के दौरान google को बनाया था. इनकी अविष्कार की ख़ास बात यह थी. की, इनका फोकस इसीपर था की, एक website को दुसरे website से तुलना करके ऊपर लाना चाहिये. इस नए तकनीक को उन्होंने PageRank नाम दिया. तो चलिये अब google के बारे में शुरवात से विस्तार में जानने की कोशिश करते है.

  • साल १९९६ में इसकी शुरुवात लैरी पेज और सग्रेई ब्रिन ने स्टैनफोर्डविश्वविद्यालय, कैलिफ़ोर्निया से पीएचडी पढ़ते वक्त की थी. जिसका शुरवाती नाम “BACKRUB” रखा गया था.
  • एक साल बाद यानी 1997 में इन दोनों ने इसे google यह नाम दिया. बल्कि सच्चाई यह हे. की, यह नाम स्पेल्लिंग मिस्टेक की वजह से आया है. हकीकत में वे दोनों “googol” यह नाम रखना चाहते है. googol यह mathematical टर्म है. जिसका अर्थ होता हे 10 Power 100 यानि 10 के बाद सो जीरो.
  • सन 2000 में google ने adword नाम की सेवा शुरू की. जिसे आज Adsense के नाम से जाना चाहता है. जो की एक online advertisiment कंपनी है. यह google.inc का main income sourse है.
  • फिर आगे 1 एप्रिल 2004 को company ने Gmail सुविधा को launch किया. साथ ही काफी बड़ा space भी दिया. Gmail कुल 15 GB तक space देती है. जो की आज के date में भी बाकी और से ज्याडा देती है.
  • इसी साल के मध्य के दौरान यानि सन 2004-2005 में गुगल ने keyhole नाम की company खरीद लिया. जो की map बनाती थी. इसे खरीदने के बाद दो ओर products लांच किये गए. एक Google map जो आज रस्तो की जानकारी और किसी नए जगह के बारे में बताती है. साथ ही real time नेविगेशन भी दिखाती है. दूसरा प्रोडक्ट Google earth से माना जाता है. जो की हमें हमारे घर का 360 degree view दिखता है.
  • 2006 में एक और बड़ी कामयाबी हात लग  गयी. इस साल में google ने “YouTube” नाम की online video watching साईट तैयार कर ली. जो की आज दुनिया नंबर २ का सर्च इंजन बन चूका है.
  • 2007 में “Android” नाम के oprating system को खरीद लिया. जी आजके लघभग सभी devices में इस्तेमाल की जाती है.
  • 2008 में सुंदर पिचाई के कहने और अथक परीश्रम के बाद, Chrome नाम का खुदका web browser मार्केट में लेकर आये.
  • 2011 में Google+ इस social platform को शुरू कर दिया.
  • 9 जुलाई 2012 से voice search feature को शुर कर दिया और अभी यानि 2018 में Google assistance लेकर आये.
  • 2015 में VR Head Set लेकर आये जो देखते ही देखते काफी popular बन गया.

तो ये हमने कुछ google के history को देखा.ओर भी बहुत सारे बाते है. पर जो important घटनाये हे, उसे ऊपर बताया गया है.

नीचे यहापर आप गुगल का शुरुवात में कैसे दिखता था. इसका screenshot देख सकते है.

google image of history

Google के कुछ important products 

  1. Admob – Android application को monetize करने के लिए. इसके जरिये apps में एड्स  advertisements लगाकर पैसा कमाए जा सकते है.
  2. Android – आज के तारीख में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला और सबसे popular oparating system है.
  3. Allo – Allo एक social media app है. जो WhatsApp की तरह ही, massaging और conversation की सुसिधा देती है.
  4. Blogger – यह एक फ्री blog post publishing tool है. जिसके मदत से खुदकी मुफ्त website बनायीं जा सकती है.
  5. Chrome – क्रोम इनका खुदका वेब ब्राउज़र है. जिसे बनाने के पीछे हमारे भारतीय सुंदर पिचाई का बड़ा हात था.
  6. Dart – यह एक google के द्वारा बनायीं गयी programming language है.
  7. Doubleclick – यह एक ad display और create करने की technology है. जिससे digital advertising manage की जा सकती है.
  8. Duo – Google duo को अभी-अभी launch किया गया है. यह एक simple और high-quality video calling app है.
  9. Earth – हमारा प्लेनेट यानि पृथी और हमारा घर इसका हम 360 डिग्री view देख सकते है.
  10.  Google AdWord – यह एक online advertisement network है. जो पब्लिशर्स को pay per click program चलती है.
  11. Google AdSense – यह publishers के लिए platfrom है. जिसका इस्तेमाल करके वे अपने वेबसाइट में ads लगाकर कमाई कर सकते है.
  12. Play store – Android app को store करने के लिए इसे बनाया.
  13. Picasa – अपने फोटो edit और शेयर करने का प्लेटफार्म है.
  14. YouTube – youtube एक online विडियो watching and sharing platform है.
  15. Translate – यह टूल किसी भी एक भाषा को दूसरी भाषा में ट्रांसलेट करने की क्षमता रखता है.
  16. Tez – यह खास India के लिए बनाया गया है. यह एक digital payment app है.

You may like also:-

Google के और भी काफी सारे popular products है. पर मैंने ऊपर सिर्फ उनको लिस्ट किया है. जो सबसे पोपुलर है. या फिर शायद आपको इसके बारे में पता होगा.

Little more – 

तो चलिए मित्रो! आज मैंने आपको google क्या है? इसके बारे में बताने की कोशिष की है. उम्मीद करता हूँ, हमेशा की तरह आपको आजका आर्टिकल भी काफी पसंद आया होगा. अगर आप google के बारे में कुछ कहना चाहते है. तो अभी अपने विचार कमेंट के जरिये शेयर कर सकते है. अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना मत भूलिए.

About Rushikesh Sonawane

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम Rushikesh Sonawane है. और मे jankaribook.com का founder हूँ. और मेने इस ब्लॉग को other blogger की help करने लिये बनाया है. वैसे तो मेरा nature काफी फ्रेंडली है. पर में ब्लॉग्गिंग को लेकर में काफी serious हूँ. blogging सिर्फ मेरी hobby नहीं, बल्कि मेरा जुनून है. And I always live for my passion... और जाने..

4 thoughts on “Google क्या है और इसकी हिस्ट्री | गूगल के बारे में A to Z जानकारी

Comments are closed.