Parts of Speech In Hindi

Parts of Speech In Hindi

तो कैसे हे आप? आज हम English grammar के parts of speech के बारे में सिखने जा रहे है. यह काफी महत्वपूर्ण टॉपिक है. जिसके बेस के आधार पर पूरा अग्रेजी का व्याकरण टिका हुआ है. इसीलिये इसे इंग्लिश ग्रामर का back bone यानि रीड की हड्डी भी कहा जाता है.

parts of speech

अगर आप SSC CGL,  IBPS जैसे exams की तैयारी कर रहे है. तो उसमे भी English grammar को काफी weightage दिया जाता है. सभी चैप्टर्स को अलग-अलग importance होती है. लेकिन अगर हमें basic concept को क्लियर करना है. तो शब्द भेद से शुरवात करने पड़ेगी. इसीलिये आजका हमारा लेसन है. Parts of speech in Hindi.

Definition of parts of speech in Hindi.

में आपको इसके बारे में बिलकुल ही आसानी से समझाने की कोशिश करता हूँ. देखिये स्पीच यानि होता हे भाषण अथवा भाष्य. या सीधे शब्द में हम बोलना यह कह सकते है. तो basically speech कही सारे वाक्यों(A collection of sentences) से मिलकर बनता है. और एक वाक्य कही सारे शब्द यानि words से तैयार होता है और types का अर्थ होता है प्रकार.Example parts of speech

So, In definition language किसी भी वाक्य में इस्तेमाल किये गए शब्दों को किसी न किसी विशेष कार्य के लिये, इस्तेमाल किया जाता है. इन शब्दों को अग्रेजी भाषा में Form, Structure और प्रयोगों के आधार पर 8 भागो में विभाजित किया गया है. इनको ही “part of speech” और Hindi में “शब्दभेद” कहा जाता है.

पार्ट्स ऑफ़ स्पीच के 8 प्रकार है…

  1. Noun(संज्ञा)
  2. Pronoun(सर्वनाम)
  3. Adjective(विशेषण)
  4. Verb(क्रिया)
  5. Adverb(क्रिया विशेषण)
  6. Preposition(सम्भंद सूचक अव्यय)
  7. Conjuction(सयोंजक)
  8. Interjuction(विस्मयादिबोधक)

अभी नीचे हम इसके बारे में सिर्फ basic information जानेंगे. क्योंकि, एक ही आर्टिकल में सभी प्रकार को कवर करेंगे. तो आपको समझने में मुश्किल होगी. लेकिन, इन सभी topic के उपर अलग-अलग articles में डिटेल्स में समझाया जायेगा.

Read Also –

Tense chart

6 टिप्स English बोलना सीखे 

Introduction of the parts of speech in Hindi

1. Noun(नाउन)

Noun को हिंदी भाषा में संज्ञा कहते है. किसी भी व्यक्ति, पशु, जगह, वस्तु, भावना, गुण या फिर किसी भी चीज का नाम बताने वाले शब्द को संज्ञा कहते है.

ऐसे चीजे अथवा वस्तु जिनको हम आंखोसे देख सकते है. जिनको हम स्पर्श कर सकते हे या फिर उनके बारे में सोच सकते है. ऐसे सारी बाते noun के category में आते है.

Example – Jay, Pune, Boy, Water, School, Children, Girls, TV, Car, etc.

Kinds Of Nouns

  1. Proper Noun
  2. Common Noun
  3. Collective Noun
  4. Material Noun
  5. Abstract Noun

2. Pronoun(प्रोनाउन)

संज्ञा के स्थान पर(instead of a noun) इस्तेमाल किये जाने वाले शब्द को ही सर्वनाम कहते है. अर्थात ऐसे वाक्य जिसमे नाम का इस्तेमाल नहीं किया गया हो. लेकिन, वाक्य में नाम की जगह जिस कर्ता से नाम का बोध होता है. उसे ही “pronoun” कहा जाता है.

उदारणार्थ –

  • I am a boy.
  • He is smart.
  • She looks beautyful.

Kinds of pronouns 

  1. Personal Pronoun
  2. Possessive Pronoun
  3. Reflexive Pronoun
  4. Relative Pronoun
  5. Demonstrative Pronoun
  6. Indefinite  Pronoun
  7. Interrogative Pronoun
  8. Distributive Pronoun

3. Adjective(ऐडजेक्टिव)

किसी भी संज्ञा अथवा विशेषण के बारे में विशेष यानि अधिक माहिती बताने वाले word को ही adjective कहा जाता है.  Adjective का इस्तेमाल नाउन के पहले और वर्ब के बाद किया जाता है.

उदारणार्थ-

  • Ram is a clever person.
  • Poonam is a taller girl.

Important kinds of adjective

  1. Adjective of quality
  2. Adjective of quantity
  3. Adjective of number
  4. Demonstrative adjective
  5. Interrogative adjective

4. Verb(वर्ब)

वर्ब का हिन्दी अर्थ “क्रिया” होता है. और क्रिया किसी चल रहे कार्य की स्थिति दर्शाता है. जैसे- खाना खाया, खेल रहा हूँ. यहापर कोई कार्य चल रहा है या फिर संपन्न हुआ है. ऐसी स्तिथि वर्ब से ही पता चलती है. English language में, verbs की 3 रूप होते है.

400+ verbs forms in Hindi.

5. Adverb(एडवर्ब)

Adverbs को हिंदी में क्रिया विशेषण कहा जाता है. क्रिया विशेषण वो शब्द होते है. जो किसी verb, adjective या फिर किसी दुसरे क्रिया विशेषण के विशेषता बताते है. उनके बारे अधिक जानकारी प्रदान करते है. समझना थोडा मुश्किल हे पर उदाहरन के जरिये, इसे अच्छेसे समझा जा सकता है.

Ex –

  1. Ram writes fast. – यहापर write यह एक verb है. जिसका अर्थ लिखना यह होता है. तो देखिये यहापर राम लिखता है. पर कैसे लिखता है? तो उसके बारे में fast इस शब्द से पता चलता है. अब इसका अर्थ होगा. राम तेजीसे लिखता है. तो यहापर write इस क्रिया के बारे में fast इस वर्ड ने विशेषता बताई है.
  • verb – write
  • Adverb – Fast

Types of Adverbs

  1. Adverb of manner
  2. Adverbs of place
  3. Adverbs of time
  4. Adverbs of frequency
  5. Adverbs of degree
  6. Adverb of reason
  7. Interrogative of adverbs

6. Preposition(प्रेपोजिशन)

देखिये preposition दो शब्दों को मिलकर बना है. Pre+Position और इसमे pre का अर्थ before(से पहले) यह होता है. ठीक उसी प्रकार यहापर position का अर्थ place यह होता है.

तो simple word में, prepostion वो शब्द होते है. जो noun and pronoun के पहले place किये जाते है. जिससे वाक्य में बचे शब्दों में सम्भंद स्थापित किया जाता है.

Examples –

  • I am with you.
  • I am the founder of jankaribook.com
  • She is going by bus.

7. Conjunctions(कंजंक्शन)

conjunctions वो शब्द है. जो किसी दो sentences, clauses, phrases और word को आपसे join अथवा connect करते है.

Examples-

  • Sita and Gita are sisters.
  • I like watching a TV but don’t like a cartoon.

Kinds of conjunctions.

  1. Coordinating conjunctions
  2. Subordinating conjunctions
  3. Correlative conjunctions

8. Interjection(इंटरजेक्शन)

किसी घटना से अचानक में कोई भावना उत्पन्न होती होती है. जैसे सुख की भावना, दुःख की भावना या फिर किसी को शाबासी देना. चाहे जो कुछ भी हो, लेकिन अचानक में आई भावना को हम जिस शब्द से प्रकट करते है. उस शब्द को ही interjection कहते है. ऐसे शब्द के अंत में explementary mark(!) दिया जाता है.

Examples –

  • Alas! He is dead.
  • Hurrah! India has won the match.
  • Hello! what’s going on?

Conclusion – 

तो मित्रो आज हमने parts of speech के बारे पढ़ा है. में उम्मीद करता हूँ. आपको सबकुछ समझ आया होगा. अगर आपको कुछ भी समझ नहीं आया. तो घबराने की कोई बात नहीं है. क्योंकि, आज हमने सिर्फ parts of speech होता क्या है. इसके बारे में basic information हासिल की है.

अगर आपको इस article को पढ़ने के बाद parts of speech कितने है? और कोन-कोन से है. यह भी समझ आया तो भी काफी है. क्योंकि, आने वाले आर्टिकल में हम इन एक-एक टाइप को deep में कवर करने.

तो आजके के लिए इतना ही. अगर कोई सवाल पूछना चाहते है. तो नीचे कमेंट के जरिया अपना सवाल पूछिए. अगर पोस्ट पसंद आई है. तो इसे facebook पर share करना मत भूलिए.

 

About Rushikesh Sonawane

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम Rushikesh Sonawane है. और मे jankaribook.com का founder हूँ. और मेने इस ब्लॉग को other blogger की help करने लिये बनाया है. वैसे तो मेरा nature काफी फ्रेंडली है. पर में ब्लॉग्गिंग को लेकर में काफी serious हूँ. blogging सिर्फ मेरी hobby नहीं, बल्कि मेरा जुनून है. And I always live for my passion... और जाने..