Share Market: शेयर बाजार क्या है? पैसे का कुआ अथवा जोखिमों का भंडार?

स्टॉक या शेयर मार्केट एक ऐसा बाजार है जहां कई कंपनियां अपने व्यवसाय को सार्वजनिक रूप से परिवर्तित करती हैं और कंपनी की कुछ हिस्सेदारी सूचीबद्ध करती हैं, ताकि लोग कंपनी की भागीदारी का कुछ प्रतिशत खरीद और बेच सकें। यह पूरी तरह से बाजार की तेजी-मंदी, वैश्विक हल चल, मुद्रा और सेबी की नीतियों पर निर्भर करता है। एक तरह से यह एक खुला बाजार है जहां आम लोग भी अपना पैसा निवेश कर सकते हैं और किसी भी कंपनी में स्वामित्व प्राप्त कर सकते हैं। जिससे भविष्य में कंपनी को जो भी लाभ होगा, वह शेयर धारक को भी मिलेगा।

share market kya hai
share market

हमने आपको सरल शब्दों में बताने की कोशिश की लेकिन फिर भी आपको अच्छेसे समझाने के लिये निचले स्तर पर जाकर एक-एक शब्द को ब्रेकडाउन करते है।

शेयर क्या है?

बेसिक लेवल से समझने की कोशिश करे तो “share” यह अग्रेजी शब्द है जिसका हिंदी अर्थ “हिस्सा” अथवा “भाग” होता है।

अभी निवेश एवं वित्तीय भाषा में “शेयर किसी भी कंपनी की पूंजी(कैपिटल) का सबसे छोटा हिस्सा होता है।”

उदाहरण के तोर पर मान लीजिये की “अबक” नामक एक कंपनी है, जिसकी टोटल मार्केट वैल्यू/कैपिटल/पूंजी 1 लाख रुपये है और इस पूंजी को अगर 1000 हिस्सों में बाँट दिया जाता है। तो अब कंपनी का बाँटा गया प्रत्येक भाग, उस कंपनी के कुल पूंजी का एक छोटासा हिस्सा है, जिसकी कीमत 100 रुपये है।

फिरसे एक बार समझे!

  • अबक नामक कंपनी = कुल पूंजी १ लाख रुपये।
  • 1000 हिस्सों में बांटा गया = ये हजार हिस्से और कुछ नहीं बल्कि कंपनी के शेयर्स है।
  • अगर एक लाख रुपये को एक हज़ार रुपये बाँट दिया जाए, तो अब एक शेयर की कीमत 100 रुपये हो जाएगी।

100000 रुपये कंपनी की कुल पूंजी ÷ 1000 हिस्से = 100 प्रत्येक शेयर की कीमत

अभी ऊपर दिए उदाहरण का ही आधार लेते है, तो अगर आप अबक कंपनी के 5 शेयर लेते है 500 रुपये चुकाने होंगे। जितने ज्यादा आप शेयर खरीदेंगे उतने ही प्रतिशत आप उस कंपनी के मालिक बनेंगे।

उदाहरन के तोर पर आप 500 शेयर खरीदते है, आप कंपनी में पचास प्रतिशत के मालिक बनेंगे। जो व्यक्ति किसी कंपनी के शेयर अपने पास रखता हे तो उसे शेयर होल्डर कहा जाता है।

शेयर मार्केट क्या है? Share Market In Hindi

लेख के पहले पैराग्राफ में ही मैंने आपको स्टॉक मार्केट सम्बंदित परिपूर्ण जानकारी प्रदान की, फिर इसे और विस्तार से जानने की कोशिश करते है।

शेयर बाजार एक ऐसा प्लेटफार्म अथवा मार्केट है, जहापर बहुत सारे बिज़नेस यानी कंपनीया लिस्टेड होती है। इस बाजार में किसी भी कंपनियों के शेयर बेचे और खरीदें जाते है। बहुत सारे लोग शेयर मार्केट में अपने पैसे निवेश करके अपनी पूंजी को बढ़ा लेते है यानी मुनाफ़ा कमाते है।

यह ऐसा बाजार है जहापर पर लोग अपने पैसे दाव पर लगाते है और पैसे से पैसा कमाते है। हालांकि, बहुत सारे ऐसे भी लोग है जो अपने पैसे को गवांते है।

शेयर मार्केट का बिलकुल सिंपल सा फंडा है – जिस कंपनी के शेयर हमने ख़रीदे है अगर वो ग्राउंड लेवल पर अच्छा प्रदर्शन करती है, यानी उनके बिजनेस की ग्रो होती है अथवा कंपनी प्रॉफिट में रहती है तो हमने जो शेयर्स ख़रीदे है, तो उनकि वैल्यू बढती और हमारी पैसे भी बढ़ जाते है।

कंपनीया सार्वजानिक रूप से शेयर मार्केट में क्यों लिस्ट की जाती है?

अभी अगर आप थोड़े से इंटेलीजेंट होंगे, तो आपको एक सवाल जरुर मन आया होंगा। की, ये बड़ी-बड़ी कंपनी शेयर मार्केट के दुनिया में क्यों उतरती है? और लोगो को क्यों मौका देती कंपनी में हिस्सेदारी लेने की? क्या ऐसा करना अनिवार्य है अथवा सरकार का कोई नियम होता है?

तो फ्रेंड्स ऐसा कोई कानुन नहीं है, की अगर आप कोई बिजनेस को रन करते है, और आपको उसे शेयर मार्केट में लाना ही है।

इसके पीछे कोई नियम नहीं, बल्कि कंपनी का ही लाभ होता है और वो अपने मर्जी से स्टॉक बाजार में उतर जाती है। वो क्यों? इसे एक प्रैक्टिकल उदहारण से समझते है।

मान लीजिये, आप किसी बड़े शहर में रेस्टारेंट का बिज़नस चलाते है। और उस क्षेत्र में आपका व्यापार बहुत अच्छा चल रहा है, लोगो का काफी बढ़िया रिस्पोंस आ रहा है, महीनो का लाखो में टर्नओवर आ रहा है।

अब आप एक बिजनेस मालिक के तोर पर यह सोचते है, की मेरा तो ब्रैंड बन गया है। लोकल एरिया में, यह बिज़नस इतना लोकप्रिय हो गया है। तो क्यों ना इसे एक्सपांड करे, भारत के अन्य बड़े शहर में इस रेस्टोरंट की ब्रान्चेस खुलवाए।

ये तो हुआ एक मानसिक स्तर पर आईडिया, लेकिन इसे इम्प्लीमेंट करने के लिए आपके पास होना चाहिए ढेर सारा कैपिटल, तो अब सवाल आता है की आप किसतरह से अपने पैसे की जरुरत को पूरी करेंगे?

क्या बैंक से लोन लेंगे? या फिर रिश्तेदारों से उधार, शायद आपको वहासे पैसे मिल भी जायंगे, लेकिन ब्याज का क्या? इसीलिए ये कंपनिया अपना IPO(Initial Public Offering) निकालती है और बिज़नस के कुछ प्रतिशत शेयर्स पब्लिकली ऑफर करती है। और यहाँ अगर लोगो को यह बिज़नस अच्छा लगता है तो उसमे पैसे निवेश करते है। दूसरी तरफ business owner को अपने व्यापार का विस्तार करने के लिये ढेर सारी पुंजी मिल जाती है।

शेयर मार्केट पैसे का कुआ अथवा जोखिमों का भंडार?

आपने हर्षद मेहता के वेबसीरिज में एक डायलॉग जरुर सुना होगा की “शेयर मार्केट इतना गहरा कुआँ है जो पुरे देश की पैसे की प्यास बुझा सकता है।

share market dialog
Image credit – Beyoung.in

तो क्या यह सचमुच इतने पैसे दे सकता है या फिर इसमें बहुत सारा जोखिम है जो हमारे पैसे भी डूबा सकता है।

एक और फैक्ट बतादे, तो अमेरिका में लघभग 50 प्रतिशत लोग शेयर में निवेश करते है। वही दूसरी तरफ भारत में सिर्फ 4.3 प्रतिशत लोग ही शेयर मार्केट में निवेश करते है। इस आंकड़ो के हिसाब से यह साफ़ जाहिर होता है की भारत के लोग काफी डरते है जोखिम लेने में।

लेकिन असलियत यह है, की जी बिलकुल शेयर मार्केट पैसे का कुआ है और आप भी इसमे निवेश करके ढेर सारा पैसा कमा सकते है। परंतु, आपको निम्मलिखित दो बातो का ध्यान रखाना होगा।

  1. टिप ना ले खुद रिसर्च करे – देखिये आप अपने पैसे निवेश करने वाले है, इसीलिए किसी से टिप ना ले। खुद मार्केट रिसर्च करे और पता करे की कोंसी कंपनी में दमखम है, जो इंडस्ट्री हे उसका फ्यूचर क्या है, बिज़नस एडमिनिस्ट्रेशन कैसा है, इन सभी बातो का ध्यान रखे।
  2. सब्र रखिये – देखिये अगर अच्छे स्टॉक्स में इन्वेस्ट करते है तो आपको सालाना 15-18% रिटर्न तो मिलेगा ही। लेकिन आप जितने लम्बे समय तक टिके रहेंगे उतना ही बढ़िया लाभ हो सकता है।

इन दोनों पॉइंट्स को प्रैक्टिकली समझने के लिए एक उदाहरन देखेते है। अगर आपने 40 साल पहले –

शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाये?

बहोत लोगो को यह भ्रम है की शेयर बाजार में निवेश करना बहुत ही मुश्किल कार्य होगा। रुकिए जनाब! ये ऑनलाइन का ज़माना है। आज आप अपने घरसे ही अपने मोबाइल के जरिये शेयर मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करना स्टार्ट कर सकते है।

शेयर बाजार में पैसे लगाने अथवा निवेश करना शुरू करने के लिये निम्मलिखित चीजो की आवश्यकता होगी।

  • बैंक अकाउंट – आपके पास सेविंग अकाउंट होना जरुरी है ताकि आप कोई भी शेयर खरीद और विक्री के लिए पैसे का व्यवहार कर सके।
  • पैन कार्ड – KYC proof के लिए आपके पास पैन कार्ड होना चाहिए।
  • ट्रेडिंग और डीमाट अकाउंट – आपको शेयर मार्केट में स्टॉक एक्सचेंज करने के लिए ट्रेडिंग और डीमाट अकाउंट खुलवाना होगा। Demat account एक एप्लीकेशन अथवा प्लेटफार्म होता जो आपको डायरेक्टली शेयर खरीदने और बेचने की सुविधा प्रदान करता है।

सक्षेप में –

मित्रों शेयर मार्केट के सम्बभंदित बहुत सारे टेक्निकल टर्म्स है। लेकिन में आपको पहले ही लेख में ज्यादा कंफ्यूज नहीं करना चाहता। इसीलिए मैंने इस लेख को काफी सरल रखने की कोशिश की है, में उम्मीद करता हूँ आपको मेरा प्रयास पसंद आएगा।

Leave a Comment